[50+] Zindgi Shayari in Hindi (NOV 2021) | Jindgi Shayari | जिन्दगी शायरी

क्या आप जिन्दगी शायरी ढूंड रहे है? तो पढ़िए Best Zindgi Shayari in Hindi और शेयर करें अपने दोस्तों के साथ Whatsapp, Facebook और Instagram पर


Zindgi Shayari


Zindgi Shayari
Sad Zindgi Shayari Hindi

ऐ ज़िन्दगी मुझे कुछ मुश्कुराहते उधार दे दे,
अपने आ रहे है मिलने की रश्म निभानी है..!!

अब तो अपनी तबियत भी जुदा लगती है,
सांस लेता हूँ तो ज़ख्मों को हवा लगती है,
कभी राजी तो कभी मुझसे खफा लगती है,
जिंदगी तू ही बता तू मेरी क्या लगती है..!!

ज़िन्दगी तुझसे हर एक साँस पे समझौता करूँ,
शौक़ जीने का है मुझको मगर इतना तो नहीं,
रूह को दर्द मिला दर्द को आँखें न मिली,
तुझको महसूस किया है तुझे देखा तो नहीं..!!

मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,
ऐ ज़िंदगी, मुझे रोज-रोज तमाशा न बनाया कर..!!

फुर्सत मिले जब भी तो रंजिशे भुला देना,
कौन जाने साँसों की मोहलतें कहाँ तक हैं..!!

मेरी ज़िन्दगी का मकसद पूछते है लोग,
सुनो बेवजह भी जीते हैं हम जैसे लोग..!!

उनके साथ जीने का एक मौका दे दे ऐ खुदा,
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेगे..!!

ये सोच कर अपनी हर हँसी बाट दी मेने,
कि किसी ख़ुशी पर मेरा भी नाम हो जाए,
मुख़्तसर सा सफर है मेरा कोन जाने कब,
मेरे इस सफर की आखरी शाम हो जाए..!!

आया ही था खयाल कि आँखें छलक पड़ीं,
आँसू किसी की याद के कितने करीब हैं..!!

सिर्फ सांसे चलते रहने को ही ज़िन्दगी नही कहते,
आँखों में कुछ ख़वाब और दिल में उम्मीदे होना जरूरी है..!!


Zindgi Shayari in Hindi


Zindgi Shayari in Hindi
Zindgi Shayari in Hindi

मुझे ज़िन्दगी का इतना तजुर्बा तो नही,
पर सुना है सादगी में लोग जीने नही देते..!!

नफरत सी होने लगी है इस सफ़र से अब,
ज़िंदगी कहीं तो पहुँचा दे खत्म होने से पहले..!!

जीने का हौसला कभी मरने की आरज़ू,
दिन यूँ ही धूप-छाँव में अपने भी कट गए..!!

ज़िन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है,
ज़ुल्फ़-ओ-रुखसार की जन्नत नहीं कुछ और भी है,
भूख और प्यास की मारी हुई इस दुनिया में,
इश्क ही इक हकीकत नहीं कुछ और भी है..!!

सिर्फ सांसे चलते रहने को ही ज़िन्दगी नही कहते,
आँखों में कुछ ख़वाब और दिल में उम्मीदे होना जरूरी है..!!

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,
जैसे ये ज़िंदगीए ज़िंदगी नही कोई इल्जाम है..!!

तंग आ चुके हैं कशमकश ए ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे दिली से हम,
लो आज हमने छोड़ दिया रिश्ता ए उमीद,
लो अब कभी किसी से गिला ना करेगे हम..!!

शुक्रिया ज़िन्दगी जीने का हुनर सिखा दिया,
कैसे बदलते हैं लोग चंद कागज़ के टुकड़ो ने बता दिया,
अपने परायों की पहचान को आसान बना दिया,
शुक्रिया ऐ ज़िन्दगी जीने का हुनर सिखा दिया..!!

मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,
ऐ ज़िंदगीए मुझे रोज रोज तमाशा न बनाया कर..!!

कभी आंसू तो कभी ख़ुशी देखी,
हमने अक्सर मजबूरी और बेकसी देखी,
उनकी नाराज़गी को हम क्या समझे,
हमने तो खुद अपनी तकदीर की बेबसी देखी..!!


Sad Zindgi Shayari Hindi


Zindgi Shayari Hindi
Jindgi Shayari

हाथ की लकीरे भी कितनी अजीब है,
कमबख्त मुट्ठी में तो है पर काबू में नही..!!

मुझको उस वैद्य की विद्या पे तरस आता है,
भूखे लोगों को जो सेहत की दवा देता है..!!

यूँ तो ए ज़िन्दगी तेरे सफर से शिकायते बहुत थी,
मगर दर्द जब दर्ज कराने पहुँचे तो कतारे बहुत थी..!!

हथेली पर रखकर नसीब अपना,
क्यूँ हर शख्स मुकद्दर ढूँढ़ता है,
अजीब फ़ितरत हैए उस समुन्दर की,
जो टकराने के लिए पत्थर ढूँढ़ता है..!!

ज़िन्दगी एक फूल है तो मोहब्बत उसकी खुशबू,
प्यार एक दरिया है तो महबूब उसका साहिल,
अगर ज़िन्दगी एक दर्द है तो दोस्त उसकी दवा..!!

मुझे ज़िन्दगी का इतना तजुर्बा तो नही,
पर सुना है सादगी में लोग जीने नही देते..!!

ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है,
क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नजर से हम..!!

मायने ज़िन्दगी के बदल गये अब तो,
कई अपने मेरे बदल गये अब तो,
करते थे बात आँधियों में साथ देने की,
हवा चली और सब मुकर गये अब तो..!!

ज़िन्दगी लोग जिसे मरहम-ए-ग़म जानते हैं,
जिस तरह हम ने गुज़ारी है वो हम जानते हैं..!!

मुझे ज़िंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं है दोस्तों,
पर लोग कहते हैं यहाँ सादगी से कटती नहीं..!!


Best Zindgi Shayari Image


जिंदगी शायरी हिंदी
Best Zindgi Shayari Image

ज़िन्दगी उस अजनबी मोड़ पर ले आई है,
तुम चुप हो मुझसे और मैं चुप हूँ सबसे..!!

कितना मुश्किल है ज़िन्दगी का ये सफ़र,
खुदा ने मरना हराम किया लोगों ने जीना..!!

वो हर बार अगर चेहरा बदल कर न आया होता,
धोखा मैंने उस शख्स से यूँ न खाया होता,
रहता अगर याद कर मुझे लौट के आती नहीं,
ज़िन्दगी फिर मैंने तुझे यूं न गंवाया होता..!!

ज़िन्दगी में ऐसे लोग भी होते है,
जिन्हें हम पा नही सकते सिर्फ चाह सकते है..!!

ज़िन्दगी कभी आसन नही होती,
इसे आसान करना पड़ता है..!!

आहिस्ता चल ऐ ज़िंदगी कुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं,
कुछ दर्द मिटाने बाकी हैं कुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं..!!

पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में,
वरना मेरी ज़िन्दगी का हर पन्ना पूरी किताब है..!!

वही रंजिशें वही हसरतें,
न ही दर्द-ए-दिल में कमी हुई,
है अजीब सी मेरी ज़िन्दगी,
न गुज़र सकी न खत्म हुई..!!

समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए,
तेरे शहर में ज़िंदगी कहीं तो होनी चाहिए..!!

एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी किसी की कट जाती है..!!


Akelapan Zindgi Shayari 2 Line


जिंदगी शायरी
Akelapan Zindgi Shayari 2 Line

आया ही था खयाल कि आँखें छलक पड़ीं,
आँसू किसी की याद के कितने करीब हैं..!!

इक टूटी सी ज़िंदगी को समेटने की चाहत थी,
न खबर थी उन टुकड़ों को ही बिखेर बैठेंगे हम..!!

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से..!!

बड़े ही अजीब हैं ये ज़िन्दगी के रास्ते,
अनजाने मोड़ पर कुछ लोग अपने बन जाते हैं,
मिलने की खुशी दें या न दें,
मगर बिछड़ने का गम ज़रूर दे जाते हैं..!!

अजीब तरह से गुजर गयी मेरी भी ज़िन्दगी,
सोचा कुछ, किया कुछ, हुआ कुछ, मिला कुछ..!!

सरे-आम ​मुझे ​ये शिकायत है ज़िन्दगी से​,​
क्यूँ मिलता नहीं मिजाज़ मेरा किसी से..!!

आराम से तन्हा कट रही थी तो अच्छी थी,
ज़िन्दगी तू कहाँ दिल की बातों में आ गयी..!!

इतनी बदसलूकी ना कर ऐ ज़िंदगी,
हम कौन सा यहाँ बार-बार आने वाले हैं..!!

ज़िन्दगी दरस्त-ए-ग़म थी और कुछ नहीं,
ये मेरा ही हौंसला है की दरम्यां से गुज़र गया..!!

हर बात मानी है तेरी सिर झुका कर ऐ ज़िंदगी,
हिसाब बराबर कर तू भी तो कुछ शर्तें मान मेरी..!!


Jindgi Shayari


अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िंदगी का तजुर्बा थोड़ा थोड़ा..!!

कितना और बदलूं खुद को ज़िंदगी जीने के लिए,
ऐ ज़िंदगी, मुझको थोड़ा सा मुझमें बाकी रहने दे..!!

मंजिले तो हासिल कर ही लेगे,
कभी किसी रोज ठोकरें कोई जहर,
तो नही जो खाकर मर जायेगे..!!

खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है,
जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है,
कुछ लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे,
जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है..!!

हद ए शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली..!!

ख़ामोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है,
तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है..!!


Final Words


आपको ये ब्लॉग Sad Zindgi Shayari in Hindi कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है। तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे!

अगर आपको Zindgi Shayari पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे FacebookInstagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top