Kismat Shayari

क्या आप Kismat Shayari ढूंढ रहे है तो सही जगह पर आए है पढिए Best Kismat Shayari in Hindi और Luck Shayari और शेयर करें सोशल मीडिया पर


Kismat Shayari


Kismat Shayari
Kismat Shayari

बदलता नहीं ये किस्मत कैसी है इसकी फितरत,
सोचता हूँ खरीद लू पर लेता नहीं ये रिश्वत..!!

किस्मत मात्र एक छलावा है कर्म के गीत गाओ,
हो गई सुबह ख्वाब छोड़ो हकीकत से आँख मिलाओ..!!

जो क़िस्मत में होगा वो ख़ुद चलकर आएगा,
जो नहीं होगा वो पास आकर भी दूर चला जाएगा..!!

किस्मत कि लकीरों में तुम लिखे हो या नही पता नहीं,
पर हाथों की लकीरों पे तुम्हें हर रोज लिखता हूँ..!!

मुक़द्दर की लिखावट का एक ऐसा भी कायदा हो,
देर से किस्मत खुलने वालो का दुगुना फायदा हो..!!

क़िस्मत मे है जो लिखा वो आखिर होकर रहता,
हैं चंद लकीरें उलझी सी हाथों में रखा ही क्या..!!

किस्मत अपनी अपनी है,
किसको क्या सौगात मिले,
किसी को खाली सीप मिले,
किसी को मोती साथ मिले..!!

उदास मत हो जिन्दगी ही है कट जायेगी,
क़िस्मत ही है किसी दिन पलट जायेगी..!!

प्यार की कली सबके लिए खिलती नहीं,
चाहने पर हर एक चीज मिलती नहीं,
सच्चा प्यार किस्मत से ही मिलता है,
और हर किसी को ऐसी तकदीर मिलती नहीं..!!

कभी कभी किस्मत भी कमाल कर देता है,
रोटी कमाने निकलों तो सिर पर ताज रख देता है..!!

Shayari on Kismat
Shayari on Kismat

किस्मत की बात है,
कल तक मैं उसकी ज़िन्दगी था,
आज ज़िन्दगी में कहीं भी नही हूँ..!!

बहुत खूबसूरत है आंखे तुम्हारी,
इन्हें बना दो किस्मत हमारी,
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ,
अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी..!!

कुछ लोग किस्मत की तरह होते हैं,
जो दुआ से मिलते हैं और,
कुछ लोग दुआ की तरह होते हैं,
जो किस्मत बदल देते हैं..!!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद लड़ूंगा,
चाहें वो मिले ना मिले,
मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जियूंगा..!!

मेरे लिखने से अगर बदल जाती किस्मत तो,
हिस्से में तेरे सारा जहाँ लिख देती..!!

मंजूर है मुझे हर शर्त वो तेरी,
मैं किस्मत में नहीं खुद पर यकीं रखती हूं..!!

कल भी मन अकेला था आज भी अकेला है,
जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है..!!

सारा इल्जाम अपने सर ले कर,
हमने किस्मत को माफ कर दिया..!!

भाग्य बदलने चला किस्मत पर अपनी रो दिया,
लकीरों में था जो उसके उसने वो भी खो दिया..!!

जिंदगी और किस्मत से ज्यादा सवाल करना फिजूल है,
भला सवाल किसे पसंद होते है..!!


Kismat Shayari in Hindi


Kismat Shayari in Hindi
Kismat Shayari in Hindi

किस्मत की कश्ती का माँझी क्यों सो जाता है,
चाँद ढूँढते ढूँढते तारों में खो जाता है..!!

मेरी किस्मत से खेलने वाले,
मुझको दुनिया से बेखबर कर दे..!!

कुछ तो लिखा होगा किस्मत में,
वरना आप हम से यूं ना मिले होते..!!

तुम मिले तो यूँ लगा हर दुआ कुबूल हो गयी,
काँच सी टूटी किस्मत मेरी हीरों का नूर हो गयी..!!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद लड़ूंगा,
चाहें वो मिले ना मिले,
मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जीऊंगा..!!

हैरान हो जाएंगे देखकर दुनिया वाले मेरी बरक़त को,
कुछ इस कदर बदल देंगे हम अपनी किस्मत को..!!

इल्म हो गया मुझे मेरी अहमियत खो गई है,
जागी थी जो फिर से वो किस्मत अब सो गई है..!!

मैंने किस्मत पर भरोसा करना छोड़ दिया था,
पर तुझे पाया तो किस्मत अच्छी लगने लगी है..!!

रास्ते मुश्किल है पर हम मंज़िल ज़रूर पायेंगे,
ये जो किस्मत अकड़ कर बैठी है इसे भी ज़रूर हरायेंगे..!!

खरीद सकते तो उन्हें अपनी जिंदगी बेचकर खरीद लाते,
पर अफसोस कुछ लोग कीमत से नही किस्मत से मिलते है..!!

Kismat Shayari Hindi
Kismat Shayari Hindi

मेरा कसूर नहीं जो मेरी किस्मत का कसूर है,
जिसे भी अपना बनाने की कोशिश करता हूँ,
वो ही दूर हो जाता है..!!

तक़दीर ने क्या खूब खेल खेला है,
मेरे दिल पे तेरा नाम और जिंदगी किसी और के नाम लिखा है..!!

आये नया साल बन के उजाला,
खुले आपकी किस्मत का ताला,
हमेशा रहे मेहरबान ऊपर वाला,
यही दुआ करते है ये आपका चाहने वाला..!!

सुना है अब भी मेरे हाथों कि लकीरों में,
नाजूमियों को मुक़द्दर दिखाई देता है..!!
Kismat Par Shayari

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिसके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती है,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो..!!

दिल टुटा इस कदर की धड़कना भूल गया,
किस्मत अच्छी थी जो आपने आकर मेरे दिल को थाम लिया..!!

चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली,
कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली,
उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे,
शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली..!!

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी..!!

लिखा है मेरी तक़दीर में तेरा नाम दुनिया से क्या डरना,
चाहे लाख कोशिश कर ले जमाना,
मुमकिन नही हमको तुम से जुदा कर पाना..!!

किस्मत की लकीरें भी आज इठलाई है,
तेरे नाम की मेहँदी जो हाथों अपर रचाई है..!!


Bad Kismat Shayari


Bad Kismat Shayari
Bad Kismat Shayari

सारा इलज़ाम अपने सर लेकर,
हमने क़िस्मत को माफ़ कर दिया..!!

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल ए यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता..!!

ज़माने से ना डर जरा किस्मत पे भरोसा कर,
जब तक़दीर लिखने वाले ने लिखा है साथ,
तो फिर किस बात का है दर..!!

अहंकार में ही इंसान सब कुछ खोता है,
बेवजह किस्मत को दोष देकर रोता है..!!

कहर हो बला हो जो कुछ हो काश तुम मेरे लिये होते,
मेरी किस्मत में गम अगर इतना था दिल भी या रब कई दिये होते..!!

ख़राब हम नहीं हमारी किस्मत है,
जहां भी जाते है अकेले ही रह जाते है..!!

ए खुदा किसी एक का तो नसीब बदल दे,
चाहे उसे मेरा या मुझे उसका कर दे..!!

सूरत कितनी ही खुबसुरत क्यो न हो,
नसीब की मोहताज हुआ करती है..!!

खूबसूरती का कोई फायदा नहीं अगर नसीब अच्छे न हो,
तो दिलों के बादशाह अक्सर फकीर होते हैं..!!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद लडूंगा,
चाहें वो मिले ना मिले, मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जीऊंगा..!!


Kismat Kharab Shayari


Kismat Kharab Shayari
Kharab Kismat Shayari

क़िस्मत चले न चले पर अगर मेहनत चलती रही,
तो मंज़िल मिल ही जाएगी..!!

नसीब के खेल को भी अजीब तरह से खेला है हमने,
जो ना थे नसीब में उसी को टूट कर चाह बैठे..!!

मत कर हिसाब मेरे प्यार का कही ऐसा ना हो,
कि बाद में तू ही कर्जदार निकले..!!

किसी राह पे मिल जाओ मुसाफ़िर बन के,
क्या पता अपनी किस्मत में हमसफ़र भी लिखा हो..!!
Kismat Ki Shayari

कुम्भकरण की तरह जब किस्मत सोती है,
तभी इंसान से जमकर मेहनत होती है..!!

हाथों की लकीर, किस्मत और नसीब,
जवानी में ऐसी बातें लगती है अजीब,
कर्म करके तू लिख दे अपना नसीब,
दुनिया भी कहे इंसान था वो अजीब..!!

किस्मत पर रोना मैंने छोड़ दिया,
अपनी उम्मीदों को मैंने हौसलों से जोड़ दिया..!!

लेकर अपनी-अपनी क़िस्मत आए थे,
गुलशन में गुल कुछ बहारों में खिले,
कुछ ख़िज़ाँ में खो गए..!!

हुनर सड़कों पर तमाशा करता है,
और किस्मत महलों में राज करती है..!!

क्या खूब मैनें किस्मत पाई है खुदा ने कहा,
हंसकर संभाल कर रख पगले,
ये मेरी पसंद है जो तेरे हिस्से में आई है..!!


Luck Shayari


Luck Shayari
Luck Shayari

किस्मत भी उनका साथ देती है,
जिनमें कुछ कर गुजरने की हिम्मत होती है..!!

जब भी रब दुनिया की किस्मत में चमत्कार लिखता है,
मेरे नसीब में थोड़ा और इंतज़ार लिखता है..!!

मेरा कसूर नहीं जे मेरी किस्मत का कसूर है,
जिसे भी अपना बनाने की कोशिश करता हूँ,
वो ही दूर हो जाता है..!!

जैसे बिछड़ने की जल्दबाजी हो,
मिलकर भी ऐसे बिछड़ना हुआ,
जैसे कायनातए किस्मत की जालसाजी हो..!!

मेरी चाहत को मेरे हालात के तराजू में कभी मत तोलना,
मेने वो ज़ख्म भी खाए है जो मेरी किस्मत में नहीं थे..!!

अपने हाथों अपनी किस्मत बिगाड़ा हूँ,
जिंदगी एक खेल है और मैं अनाड़ी हूँ..!!

दुआ की न पूछो की कितनी है कुदरत,
उठा के हाथ देखो बदलती है किस्मत..!!

किस्मत ने कहा आज से सब हुआ तेरा,
मैंने कहा अभी मन नहीं भरा मेरा..!!

बिकने वाले और भी है जाओ जाकर खरीद लो,
हम कीमत से नहीं किस्मत से मिला करते है..!!

प्यार हो तो किस्मत में हो,
वरना दिलों में तो सबके होता हैं..!!

बिन लगाए पौधा फूल नहीं खिलता,
वक्त से पहले और किस्मत से ज्यादा,
किसी को कुछ नहीं मिलता..!!

काश किस्मत भी नींद की तरह होती,
हर सुबह खुल जाती..!!


Final Words


आपको ये ब्लॉग Kismat Shayari in Hindi और Luck Shayari कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है। तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे!

अगर आपको Kismat Shayari पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे FacebookInstagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top