[50+] Intezaar Shayari in Hindi (OCT 2021) | इंतज़ार शायरी

हमने अच्छी अच्छी Intezaar Shayari डाली है पढ़िए Best Shayari on Intezaar in Hindi और शेयर करें दोस्तों के साथ Facebook, Whatsapp और Instagram पर


Intezaar Shayari


Intezaar Shayari
Intezaar Shayari

एक लम्हे के लिए मेरी नजरों के सामने आजा,
एक मुद्दत से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा..!!

वो तारों की तरह रात भर चमकते रहे,
हम चाँद से तन्हा सफ़र करते रहे,
वो तो बीते वक़्त थे उन्हें आना न था,
हम यूँ ही सारी रात करवट बदलते रहे..!!

उल्फ़त के मारों से ना पूछो आलम इंतज़ार का,
पतझड़ सी है ज़िन्दगी और ख्याल है बहार का..!!

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियों की अब आदत हो गयी है..!!

आँखें जो उठाए तो मोहब्बत का गुमाँ हो,
नज़रों को झुकाए तो शिकायत सी लगे है..!!

वो न आयेगा हमें मालूम था उस शाम भी इंतज़ार,
उसका मगर कुछ सोच कर करते रहे..!!

उम्मीदों के शहरे जिए जा रहे है,
तेरे नाम होठों पे लिए जा रहे है,
एक वो है जो आने का नाम नहीं लेती,
एक हम है कि इंतज़ार किये जा रहे है..!!

तुझे ना हासिल कर के भी ये सुकून तो रहा,
कम से कम तेरे इंतज़ार में समय तो नहीं गवायाँ..!!

बेचैनी प्यार से ज्यादा किसी के इंतज़ार में होती है..!!

कोई आपको अपने से भी ज़्यादा तब अपना लगने लगता है,
जब उस से मिल कर भी आपका इंतज़ार खत्म नहीं होता..!!


2 Line Intezaar Shayari


Intezaar Shayari in Hindi
2 Line Intezaar Shayari

इंतज़ार में समय की गति नज़रिये पर निर्भर करती है,
अच्छा हो तो तेज और बुरा हो तो धीमे..!!

सुकून से इंतज़ार आपस में प्यार करने वाले,
लोग भी मुश्किल से ही कर पाते है..!!

अब और कितना इंतज़ार कराओगी ऐ ज़िंदगी,
मिलो और बातें चार कर कुछ मुद्दे ही सुलझा लो..!!

तड़प कर देखो किसी की चाहत में,
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है,
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो,
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है..!!

क़दम क़दम पर बिछे हैं गुलाब पलकों के,
चले भी आओ कि हम इंतज़ार करते हैं..!!

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को..!!

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले..!!

ऐसे ही इंतज़ार में लज़्ज़त अगर न हो,
तो दो घड़ी फ़िराक़ में अपनी बसर न हो..!!

हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है,
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं,
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार,
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है..!!

रात क्या होती है हमसे पूछिए,
आप तो सोये सवेरा हो गया..!!


Intezaar Shayari in Hindi


Sad Intezaar Shayari Hindi
Intezaar Shayari in Hindi

हर आहट पर साँसें लेने लगता है,
इंतज़ार भी भला कभी मरता है..!!

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई..!!

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं,
तेरा दीदार करने की चाह जगी है,
न जानूँ तेरा नाम न तेरा पता फिर भी न जाने क्यों,
इस पागल दिल में एक अज़ब सी बेचैनी जगी है..!!

एक रात वो गया था जहाँ बात रोक के,
अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के..!!

मेरे पीठ पर जो ज़ख्म हैं वो अपनों की निशानी है,
वर्ना सीना तो आज भी दुश्मनों के इंतेज़ार में बैठा है..!!

इक उम्र कट गई है तेरे इंतज़ार में,
ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिन से एक रात..!!

इस उम्मीद पे रोज़ चिराग़ जलाते हैं,
आने वाले बरसों बाद भी आते हैं..!!

इसी ख़याल में हर शाम-ए-इंतज़ार कटी,
वो आ रहे हैं वो आए वो आए जाते हैं..!!

कब ठहरेगा दर्द-ए-दिल कब रात बसर होगी,
सुनते थे वो आएँगे सुनते थे सहर होगी..!!

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर..!!


Shayari on Intezaar


इंतज़ार शायरी
Shayari on Intezaar

आप करीब ही न आये इज़हार क्या करते,
हम खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
साँसे साथ छोड़ गयीं पर खुली रखी आँखें,
इस से ज्यादा किसी का इंतज़ार क्या करते..!!

इंतज़ार करने में अक्सर लोग नफरत ही करते है..!!

ओ जाने वाले आ कि तेरे इंतज़ार में,
रस्ते को घर बनाए ज़माने गुज़र गए..!!

कटते किसी तरह से नहीं हाए क्या करूँ,
दिन हो गए पहाड़ मुझे इंतज़ार के..!!

दिल में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे,
आँखों में यादों की नमी छोड़ जायेंगे,
ढूंढ़ते फिरोगे हमें एक दिन,
जिंदगी में एक यार की कमी छोड़ जायेंगे..!!

पल भर का प्यार और बरसों का इंतज़ार,
जैसे कोई अपना ही अपने घर को लूट रहा है..!!

ख़्वाब सजाकर उसका इंतज़ार करता रहा मैं,
इसी तरह एक बेवफ़ा से प्यार करता रहा मैं..!!

ये इंतज़ार न ठहरा कोई बला ठहरी,
किसी की जान गई आपकी अदा ठहरी..!!

कब आ रहे हो मुलाकात के लिये,
हमने चाँद रोका है एक रात के लिये..!!

ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें,
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें,
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें,
इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें..!!


Sad Intezaar Shayari Hindi


इंतज़ार शायरी हिंदी
Sad Intezaar Shayari Hindi

अब ख़ाक उड़ रही है यहाँ इंतज़ार की,
ऐ दिल ये बाम-ओ-दर किसी जान-ए-जहाँ के थे..!!

मुझको अब तुझ से मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िन्दगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उसके इंतज़ार के वो दीये,
कहीं आस-पास भी उस की आहट नहीं रही..!!

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ,
उस ने सदियों की जुदाई दी है..!!

कोई इशारा दिलासा न कोई अदा मगर,
जब आई शाम तेरा इंतज़ार करने लगे..!!

कुछ बातें करके वो हमें रुला के चले गए,
हम न भूलेंगे यह एहसास दिला के चले गए,
आयेंगे कब वो अब तो यह देखना है उम्र भर,
बुझ रही है आग जिसे वो जला कर चले गए।

किसी रोज़ होगी रोशन मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नहीं तेरे लौट आने का है..!!

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है,
वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है..!!

इश्क़ में इंतज़ार की हद नहीं होती,
बस सुबह कहीं होती शाम कहीं होती..!!

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,
ख्वाब बनकर नींद चुराया न करो,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,
तुम ख़्वाबों में आ कर यूँ तड़पाया न करो!!

ये जो पत्थर है आदमी था कभी,
इस को कहते हैं इंतज़ार मियां..!!

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
लौट के कब आते हैं छोड़ कर जाने वाले..!!


Final Words


आपको ये ब्लॉग Sad Intezaar Shayari in Hindi कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है। तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे!

अगर आपको Intezaar Shayari पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे FacebookInstagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top