Desh Bhakti Shayari in Hindi (NOV 2020)

देश से प्यार तो सभी करते है और उसी प्यार को ज़ाहिर करने के लिए पढ़िए Desh Bhakti Shayari 2020 और शेयर कीजिये Desh Bhakti Status Shayari in Hindi


Desh Bhakti Shayari


Desh Bhakti Shayari

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं, तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं..!!

न पूछो ज़माने को क्या हमारी कहानी है, हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम सिर्फ हिन्दुस्तानी हैं..!!

अनेकता में एकता ही इस देश की शान है इसीलिए मेरा भारत महान है..!!

चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा, यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में..!!

चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो, लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो..!!

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं, सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं..!!

वतन की सर बुलंदी में, हमारा नाम हो शामिल, गुजरते रहना है हमको सदा ऐसे मुकामो से..!!

मझहब नही सीखाता आपस मे बैर रखना, हिन्दी हैं हम वतन है हिन्दोस्तान हमारा..!!

सीने में ज़ुनू, ऑखों में देंशभक्ति की चमक रखता हुँ, दुश्मन की साँसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हुँ..!!

उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं, जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं..!!


Desh Bhakti Shayari 2020


Desh Bhakti Shayari in Hindi

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा, हम बुलबुले हैं इसकी ये गुलसिता हमारा..!!

लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा, मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा..!!

हम आजादी तभी पाते हैं जब अपने जीवित रहने के अधिकार का पूरा मूल्य चुका देते हैं..!!

पगली तेरी याद तो बहुत आती है, मगर वतन की मोहब्बत में दम ज्यादा है..!!

भूख, गरीबी, लाचारी को, इस धरती से आज मिटायें, भारत के भारतवासी को उसके सब अधिकार दिलायें, आओ सब मिलकर नये रूप में गणतंत्र मनायें..!!

वतन हमारा ऐसा कोई ना छोड पाये, रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये! दिल एक है जान एक है हमारी, हिन्दुस्तान हमारा है यह शान हैं हमारी..!!

ये भी पढ़ें ⇓⇓⇓

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं, सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं..!!

मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए, बस अमन से भरा यह वतन चाहिए! जब तक जिन्दा रहूं इस मातृ-भूमि के लिए, और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये..!!

आजादी की कभी शाम ना होने देंगे, शहीदों की कुर्बानी बदनाम ना होने देंगे, बची है जो एक भी बूंद लहू की तब तक, भारत का आँचल नीलाम ना होने देंगे..!!

दिन रात गुरु कि पूजा करो, वही है जो हमें इस संसार के पालनहार परमपिता पमेश्वर के समीप पहुंचता है..!!


Desh Bhakti Shayari in Hindi


Desh Bhakti Shayari

इंडियन होने पर करिए गर्व, मिल के मनाएं लोकतंत्र का पर्व, देश के दुश्मनों को मिलके हराओ, घर घर पर तिरंगा लहराओ..!!

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मर मिटने वालों का बाकी यही निशां होगा..!!

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन, शांति का उन्नति का प्यार का चमन..!!

भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले! हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!

आओ झुक कर सलाम करे उनको जिनके हिस्से मे ये मुकाम आता है, खुशनसीब है वो खून जो देश के काम आता है..!!

मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है, देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है..!!

जिंदगी जब तुझको समझा, मौत फिर क्या चीज है ऐ वतन तू हीं बता, तुझसे बड़ी क्या चीज है..!!

मैं भारत का शांति प्रिय सिपाही हूँ, किसी कुत्ते की मौत आयी है तो शांति भंग करके देखो..!!

जो व्यक्ति दिन और रात परमात्मा का ध्यान करता, उसके लिए मै स्वयं को बलिदान करता..!!

दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त, मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी..!!


Desh Bhakti Shayari Image


देश भक्ति शायरी

आज़ादी का जोश कभी कम ना होने देंगे, जब भी ज़रूरत पड़ेगी देश के लिए जान लुटा देंगे! क्योंकि भारत हमारा देश है, अब दोबारा इस पर कोई आंच ना आने देंगे..!!

किसी बेवफा के लिए जान देने से अच्छा है, देश भकित में जान कुर्बान कर दो..!!

जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं, जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं..!!

लड़ें वो बीर जवानों की तरह, ठंडा खून फ़ौलाद हुआ, मरते-मरते भी की मार गिराए, तभी तो देश आज़ाद हुआ..!!

चढ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करते हैं. जो मिट गये देश पर, हम उनको सलाम करते हैं..!!

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो, होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो..!!

दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त, मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी..!!

मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ, यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ! मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ..!!

जश्न आज़ादी का मुबारक हो देश वालो को, फंदे से मोहब्बत थी हम वतन के मतवालो को..!!

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है, उछल रहा है जमाने मे नाम-ऐ-आजादी शहीदों को नमन..!!


Shayari Desh Bhakti


देश भक्ति शायरी

फरिस्ते सिर्फ आसमान में नहीं रहते हैं, जमीन ए हिंद पर उन्हें जवान कहते हैं..!!

भारत का जो करना नमन छोड़ दे, कह दो वह मेरा वतन छोड़ दे, मजहब प्यारा है जिसे देश नहीं, वो इसकी मिट्टी में होना दफन छोड़ दे..!!

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा, ये मुल्क मेरी जान है, इसकी रक्षा के लिए मेरा दिल और जां कुर्बान है..!!

खून से खेलेंगे होली, अगर वतन मुश्किल में है सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है..!!

अब दो ही बात होगी, मुहब्बत से पहले माँ, और माँ से पहले वतन की बात होगी..!!

गुमनाम बहुत हैं आज भी वतन पर जान देने वाले, कुछ लोग वतन को कोस कर मशहूर हुए जा रहे हैं..!!

चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए, मेरी हर साँस इस देश के नाम हो जाए..!!

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं, देखना हैं जोर कितना बाजू-ए-कातिल में हैं! वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां, हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं..!!

वतन की खाक को चंदन समझकर सर पे रखतें है, कब्र में भी खाके वतन कफन पे रखते हैं..!!

चलो चलते हैं मिलजुल कर वतन पर जान देते हैं, बहुत आसान है कमरे में वंदेमातरम कहना..!!



Final Words on Desh Bhakti Shayari


आपको ये ब्लॉग “Desh Bhakti Shayari” “Desh Bhakti Shayari in Hindi” “Desh Bhakti Shayari 2020” कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है। तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे! अगर आपको “Desh Bhakti Shayari” पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे Facebook, Instagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top