[New] Dard Bhari Shayari in Hindi (OCT 2020)

आपके लिए लेके आये है स्पेशल Dard Bhari Shayari, प्यार में दुःख भी है और अपने दुःख भरी फीलिंग्स को शेयर करिए Dukh/Gam Bhari Shayari के साथ


Dard Bhari Shayari


Dard Bhari Shayari

कौन कहता है नफ़रतों मैं दर्द होता है, कुछ मोहब्बत बड़ी कमाल की होती है

हम भी फूलों की तरह अक्सर तनह रहते है, कभी टूट जाते है तो कभी कोई तोड़ देता है

जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया, न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया

बड़ी हसरत थी कोई हम्हे टूट कर चाहे, लेकिन हम ही टूट गए किसी को चाहते चाहते

तुम्हारी अदा का क्या जवाब दूँ अपने दोस्त को क्या उपहार दूँ, कोई अच्छा सा फूल होता तो माली से मंगवाता जो खुद गुलाब है, उसको क्या गुलाब दूँ

अँधेरा मिटा कर शहर छोड़ जाऊंगा, एक रोज़ फिर तेरा शहर छोड़ जाऊंगा

कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा, जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं होना

आंसू बहे तो एहसास होता है दोस्ती के बिना जीवन कितना उदास होता है, उम्र हो आपकी चाँद जितनी लंबी, आप जैसा दोस्त कहाँ हर किसी के पास होता है

मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है ज़िन्दगी, लेकिन सिर्फ सांस लेने को जीना तो नहीं कहते


Dard Bhari Shayari in Hindi


Dard Bhari Shayari

हम नहीं करते इश्क़ से इश्क़ तो हमारा पेशा है, वो इश्क़ ही गया जिस मैं यार बेवफा है

हम इश्क़ के वो मुकाम पर खड़े है, जहाँ दिल किसी और को चाहे तो गुन्हा लगता है

दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है महसूस होता है जब वो जुदा होता है बिना दोस्त के जीना सजा होता है और दोस्त तुम जैसा हो तो जीवन में मज़ा होता है

करने लगे जब शिकवा उससे उसकी बेवफाई का, रख कर होंट को होंट से खामोश कर दिया

बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार हंसाती है दोस्ती रुलाता है प्यार, मिलाती है दोस्ती जुदा करता है प्यार फिर क्यों दोस्ती छोड़कर लोग करते है प्यार

ये भी पढ़ें ⇓⇓⇓

अकेले ही गुजारनी पड़ती है ज़िन्दगी और तसलियाँ देते है जीना

होंटो की हकीकत को न सज्मः हकीहत, दिल मैं उतर के देख कितने टूटे है हम

वो जिनको देख कर आँखों में आसूं जाते है, वहीं कुछ लोग ज़िन्दगी वीरान कर जाते है

हकीकत बयां करू तो मैं उसके इन्तजार में हूँ, पर क्या करू मैं नए रिश्तो की दीवार में हूँ

नफरत करोगे तो भी आउंगा तेरे पास, देख तेरे बगैर रहने की आदत नहीं मुझे


Gam Bhari Shayari


Dard Bhari Shayari

मत पूछा करो रात भर जागने की वजह हटें, मोहब्बत मैं कुछ सवालों के जवाब नहीं होते

रह रह के मुझे इतना रुलाते क्यूँ हो, याद कर नही सकते तो याद आते क्यूँ हो

मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता, क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा में मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता

बहुत आसाँ है इश्क़ में हार के खुदखुशी करलेना कितना मुश्किल है जीना, ये हमसे पूछ लेना

थोडा सा इंतज़ार ही कर लेते, मेरे दिन बुरे थे मैं नहीं

हमने भी एक ऐसे शख्स को चाहा जिसको भुला न सके और वो किस्मत मैं भी नहीं

ख़ुशी तो तकदीर में होनी चाहिए, तस्वीरों में तो हर कोई खुश नज़र आता है

और इतनी भी उदासी किस काम की, थोड़ा इश्क़ करलो वरना जिंदगी किस काम की

हम बने ही थे तबाह होने के लिए, तेरा छोड़ जाना तो महज़ इक बहाना था

ढूड ही लेता है मुझे किसी ना किसी भने से दर्द, वाकिफ हो गया है मेरे हर ठिकाने से


Gam Bhari Shayari in Hindi


दर्द भरी शायरी

वो आज करती है नजर अंदाज तो बुरा ना मान, टूट कर चाहने वालो को रुलाना रिवाज है दुनिया वालो का

कौन करता है यहाँ प्यार निभाने के लिए, दिल तो एक खिलौना है जमाने के लिए

फिर नही बसते वो दिल जो एक बार उजड़ जाते है, जनाजे को कितना भी सवार लो उसमे रूह नही आती

उसके न होने से कुछ नही बदला मुझ मे, बस जहाँ पहले दिल रहता था वहाँ अब सिर्फ दर्द रहता है

दुःख तब होता है जो वो इन्सान आप को इंग्नोर करे, जिसके लिए आप ने सबको इग्नोर किया

पता है तकलीफ क्या है किसी को चाहना, फिर उसे खो देना और खामूश हो जाना

गिरते हुए आंसुओं को कौन देखता है, झूठी मुश्कान के दीवाने है सब लोग

जो दिल में आए वो सब करना, बस एक गुजारिश है किसी से अधुरा प्यार मत करना

तुमसे बात किये बिना ज़िन्दगी भर रह सकते है, लेकिन तुम्हे याद किये बिना एक पल भी नही

बेवफा तेरा मासुम चेहरा भुल जाने के काबिल नही है, मगर तु बहुत खुबसुरत पर दिल लगाने के काबिल नही


Dukh Bhari Shayari


दर्द भरी शायरी

हर भूल तेरी माफ़ की हर खता को तेरी भुला दिया गम है कि, मेरे प्यार का तूने बेवफा बनके सिला दिया

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है जिसका रास्ता बहुत खराब है; मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा न लगा दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे! वो भी पल पल हमें आजमाते रहे; जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया! हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे।

रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है! ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है, हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं! आँसू ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे, कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।


Dukh Bhari Shayari in Hindi


ज़िन्दगी यु भी कम है मोहब्बत के लिए, यु रूठ के वक़्त गुजारने की ज़रूरत किया है

कैसे करें बयाँ तुझसे दर्द की इन्तहा को अब्बास, अपनी ही निगाहों की नमी देख कर रो पड़े आज हम

दाद देते है हम तुम्हारे नज़र अंदाज़ करने के हुनर को, जिस ने भी सिखाया है! वो उस्ताद कमाल का होगा.

कौन कहता है नफ़रतों मैं दर्द होता है, कुछ मोहब्बत बड़ी कमाल की होती है

आ गया जिस रोज़ दिल को समझें मुझे, आप की ये बेरूखी किस काम की रह जाएगी


आपको ये ब्लॉग “Dard Bhari Shayari” और “Gam Bhari Shayari” “Dukh Bhari Shayari” कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है। तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे! अगर आपको “Dard Bhari Shayari” पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे Facebook, Instagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 5]

1 thought on “[New] Dard Bhari Shayari in Hindi (OCT 2020)”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top